बीयर पीने वालो के लिए

ठंडी बीयर
भयंकर ठंडी
ठण्ड में
पियो
जी भर के
चढ़ गई अगर
तो आएगी काम
ग़म भुलाने के
टूटे दिल का गम
सूनी महफिल का गम
डेली लाइफ के गम
कभी कभी के गम
पर्सनल गम
प्राइवेट गम
पब्लिक गम
वो गम



12 comments:

ताऊ रामपुरिया said...

कभी कभी के गम
पर्सनल गम
प्राइवेट गम
पब्लिक गम
वो गम

बहुत बढिया गम ! धन्यवाद !

Neeraj Rohilla said...

वाह मजा आ गया,
भयंकर ठंडी तो नहीं ठीक ठीक ठंडी बीयर शाम को दाबते हैं :-)

राज भाटिय़ा said...

बहुत खुब आप की यह ठण्डी बियर, चलो कभी पीयेगे, लेकिन यह भयंकर क्यो है???

संगीता पुरी said...

इतनी कम उम्र में इतने प्रकार के गमों की जानकारी ?

Udan Tashtari said...

बहुत सही..अनुभवी नजर!!!

नारदमुनि said...

bhayankar thandi..ha..ha..ha..
narayan narayan

मैं कौन? क्या फर्क पड़ता है ! said...

bhayankar ya nahin, par beer to thandee hi acchi! great stuff for beer lovers (including me)...
cheers!

योगेन्द्र मौदगिल said...

देखो भाई
जो काम करो ध्यान से करना
ठण्डे मत हो जाना

बीयर हो या व्हिस्की
दोनों की दोनों रिस्की

वैसे ये बोर्ड पहले भी कहीं देखा है

डॉ .अनुराग said...

ठण्ड पड़ गयी भाई .......तुम यार फोटू भी सही ढूंढ कर लाते हो.....

pallavi trivedi said...

bhayankar thand padne hi wali hai...

makrand said...

bahut khub
regards

योगेन्द्र मौदगिल said...

कहां ठण्डे गये भाई.................... कुछ लिखो अब